अरब देशों से वापस आने वाले सभी लोगों के लिए एक खुशखबरी है, भारत सरकार अब वापस आने वाले सभी लोगों को जो आ चुके हैं और जो आने वाले हैं को देश में ही नौकरी देगी। सरकार इसके लिए लोगों को अरब देशों से वापस आने के लिए नही कह रही है। सरकार इसके लिए एक बहुत ही बड़ी और बेहतरीन योजना पर काम कर रही है।


सरकार ने स्वदेस नाम की योजना के तहत अलग-अलग लोगों के स्किल के हिसाब से डेटाबेस बनाना शुरू कर दिया है। SWADES (Skilled Workers Arrival Database for Employment Support) नाम के इस प्रोजेक्ट पर केंद्र सरकार, राज्य सरकारें और उद्योग जगत मिलकर काम कर रहे हैं।

स्किल डेवलपमेंट मिनिस्ट्री और एक्सटर्नल अफेयर्स मिनिस्ट्री दोनों इसे फैसिलिटेट कर रहे हैं। इसके तहत एक टोल फ्री नंबर भी बनाया है. वर्कर्स को ऑनलाइन फॉर्म भरने के लिए कहा जा रहा है। उसमें उन्हें अपने स्किल का डिस्ट्रक्रिप्शन देना है। फॉर्म www.nsdcindia.org/swades पोर्टल पर भरा जा सकता है।

केंद्रीय कौशल और उद्यमिता मंत्री महेंद्र नाथ पांडेय के अनुसार प्रधानमंत्री के विजन के आधार पर हम वंदे भारत मिशन के तहत वर्कर्स की स्किल मैपिंग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सिविल एविएशन मिनिस्ट्री के सहयोग से ये काम हो रहा है। वर्कर्स का स्वदेस स्किल कार्ड बनाया जाएगा जिससे उनके लिए रोजगार के मौके बढ़ेंगे।

नागरिक और उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी के मुताबिक जो वर्कर्स भारत आए हैं वह नौकरी छूट जाने की वजह से आए हैं। उनमें खास तरह के स्किल्स हैं। ये घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मार्केट में बहुत बड़ा योगदान कर सकता है। हमने पोर्टल बनाने के लिए कौशल विकास मंत्रालय से संपर्क किया। हमने फ्लाइट में वंदे भारत मिशन के तहत अनाउंसमेंट्स करवाए हैं, एयरपोर्ट पर भी बैनर लगाए हैं और उनतक हम इस इनिशिएटिव की जानकारी पहुंचा रहे हैं।

अरब देशों में काम करने वाले ज्यादातर वर्कर ऑयल एंड गैस, कंस्ट्रक्शन, टूरिज्म एंड हॉस्पिटैलिटी, ऑटोमोटिव एंड एविएशन क्षेत्र के हैं। स्वदेस स्किल्ड कार्ड से इन्हें जॉब मिलने में मदद मिलेगी।

आपको बता दें कि वंदे भारत मिशन के तहत यूएई, सऊदी अरब, कतर, कुवैत और ओमान से करीब 57,000 लोगों को सरकार वापस ला चुकी है।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here