UAE कमाने गए भारतीय नागरिक पोथुगोंडा मेदी आखिरकार 13 साल बाद अपने घर वापस आ गए हैं। 13 साल पहले UAE काम के सिलसिले में गए पोथुगोंडा मेदी एजेंट की धोखाधड़ी की वजह से वहीँ फंस कर रह गए थे। 13 साल बाद अब भारतीय वाणिज्य दूतावास की मदद से पोथुगोंडा मेदी अपने वतन भारत वापस लौट आए हैं। बिना किसी दस्तावेज के 13 साल UAE में रहने पर पोथुगोंडा मेदी पर काफी जुर्माना लग गया था।

कोरोना महामारी के दौरान UAE में फंसे सभी भारतीय नागरिकों को स्वदेश वापस लाया जा रहा था। महामारी के मद्देनजर UAE सरकार ने वीजा उल्लंघनकर्ताओं को जुर्माने में छूट देने की पहल शुरू की इसी का लाभ उठाते हुए दुबई में स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास ने पोथुगोंडा मेदी के जुर्माने की राशि में करीब 5 लाख दिरहम की छूट दिलवा दिया जिसके बाद से उन्हें स्वदेश वापस आने की मंजूरी मिल गई।

एक अधिकारी जितेंद्र नेगी ने बताया की, भारत के हैदराबाद के रहने वाले, पोथुगोंडा ने मिशन को बताया कि वह 2007 में विजिट वीजा पर यूएई आए थे, लेकिन उन्हें लाने वाले एजेंट ने उन्हें धोखा दे और एजेंट ने उनका पासपोर्ट वापस नहीं किया। दूतावास के पास सबसे बड़ी मुश्किल यह थी की मेदि के पास कोई प्रूव नहीं था जिससे की वो अपने भारतीय होने का सबूत दे सकें, ऐसे में दूतावास ने मेदी के परिवार का पता लगाने के लिए हैदराबाद में एक सोशल ग्रुप की मदद मांगी। दूतावास ने उनके पुराने राशन कार्ड और चुनाव पहचान पत्र की प्रतियां उनके मूल स्थान से मंगवाने के बाद दूतावास ने निशुल्क आपातकालीन दस्तावेज और वैध पासपोर्ट के मेदी को मुफ्त उड़ान टिकट भी मुहैया कराया और इस तरह वह 13 साल बाद यूएई से अपने वतन लौटने में कामयाब हो सके।

Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here